कोरोनाख़बरेंदलित

सफाई कर्मचारी की जिंदगी की कीमत सिर्फ 2700 रुपये

मुंबई म्युनिसिपल कारपोरेशन ने पीपीई किट भी घर पर धो लेने की दे डाली सलाह

मजदूरों की जान की कोई कद्र ही नहीं शायद इस व्यवस्था को। कोरोना वायरस को हराने में सबसे आगे की पंक्ति में मौजूद लोगों में सफाई कर्मचारियों की जान बेहद जोखिम में है। उनमें भी उनकी सबसे ज्यादा जान खतरे में है, जो ठेके के तहत काम कर रहे हैं।

शहर के अंदरूनी इलाके ही नहीं, कोरोना आइसोलेशन सेंटर हो या फिर अस्पताल, वहां कदम तभी रखा जा सकता है, जब सफाई कर्मचारी उस जगह को साफ-सुथरा रखते हैं। इसके बावजूद सफाई कर्मचारियों को अधिकांश जगह न तो पीपीई किट मिली हैं, न ही मास्क, दस्ताने और गम बूट।

safai karmchari dalit

सच्चाई यही है कि सफाई कर्मचारियों को लेकर कोई नीति ही स्पष्ट नहीं है। न्यू ट्रेड यूनियन इनीशिएटिव के सचिव मिलिंद राना डे इस मामले में मुंबई म्यूनिसिपल कारपोरेशन के रवैये पर सख्त नाराजगी जाहिर की है।

उन्होंने कहा कि ठेके पर काम करने वाले सफाई कर्मचारियों के बीमा के बारे में सरकार, म्यूनिसिपल कारपोरेशन और श्रम विभाग ने कुछ भी स्पष्ट नहीं किया है। बीएमसी में 6500 कर्मचारियों के जीवन से खिलवाड़ करने की की कोशिश हो रही है।

यहां सफाई कर्मचारियों को पीपीई किट दी गई, लेकिन उसको उतारने का तरीका न सिखाकर कह दिया गया कि घर ले जाकर धो लें और फिर वही पहन लें। सिर्फ इसलिए कि किट की कीमत 2700 रुपये है, जिसे महंगा बताकर धोकर पहन लेने को कहा गया है।

जबकि बीएमसी के ये कर्मचारी जिन क्षेत्रों में रहते हैं, वहां पानी की आपूर्ति का टाइम तक निश्चित नहीं है। इस स्थिति में कर्मचारी उस सूट को कहां रखेंगे, किसी के भी गलत तरीके से छू लेने से संक्रमण हुआ तो कौन जिम्मेदार होगा।

कर्मचारियों को ये तक नहीं बताया गया है कि उसको धोना कैसे है, वाशिंग पाउडर, साबुन से या सादा पानी से, सुखाना कैसे है।

राना डे ने कहा कि फिलहाल एनटीयूआई इस रुख पर विरोध जताकर तय किया है कि दी गई पीपीई किट को कोई घर नहीं ले जाएगा, ये जिम्मेदारी बीएमसी प्रशासन की है कि उसको ठीक से शरीर से अलग करके संक्रमण रहित बनाए। यूनियन ने सभी सफाई कर्मचारियों की 10-15 दिन पर जांच कराने की भी मांग की है।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं।)

Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Enable Notifications    OK No thanks