लेबर कोड के विरोध के कारण AICCTU के सदस्यों पर दिल्ली पुलिस ने किया मामला दर्ज!

aicctu Protest against labour code

नए लेबर कोड के विरोध में प्रदर्शन करने  के लिए   आल इंडिया सेंट्रल कौंसिल ऑफ़ ट्रेड यूनियन (AICCTU ) के सदस्यों पर दिल्ली पुलिस ने मामला दर्ज किया की है। संगठन के सदस्यों को दिल्ली के पटियाला हॉउस कोर्ट द्वारा नोटिस भेजा गया है। जिसकी अगली सुनवाई 19 दिसम्बर को होनी है।

ये भी पढ़ें-

मामले की जानकारी देते हुए AICCTU दिल्ली के सचिव सूर्य प्रकाश ने बताया कि बीते 16 सितंबर 2020 को नये शोषणकारी श्रम कानून के खिलाफ  उनके संगठन  के सदस्य  दिल्ली श्रम कार्यालय के सामने प्रदर्शन कर रहे थे। उस  विरोध  प्रदर्शन के  खिलाफ दिल्ली पुलिस ने ऐक्टू के राष्ट्रीय महासचिव राजीव डिमरी व संगठन के अन्य सदस्यों के नाम मामला दर्ज किया  है। साथ ही संगठन के सदस्यों को FIR सम्बन्धी नोटिस भेजे गए हैं।

सूर्य प्रकाश ने  इसे  शर्मनाक कारवाई कहते  हुए  इसकी  कड़ी निंदा की  है।  उन्होंने  अपने  विरोध को दुहराते हुए कहा है कि वे और उनका संगठन  नए श्रम कानूनों के खिलाफ अपना विरोध दर्ज करते रहेंगे।

गौरतलब है कि ट्रेड यूनियनों द्वारा नए लेबर कोड्स जोरदार विरोध किया जा रहा है। यूनियनों का माना है कि नए 4 लेबर कोड पूरी तरह से मज़दूर विरोधी हैं। इसमें मज़दूरों और यूनियनों को मिलने वाले सभी अधिकारों को ख़त्म कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें-

https://i0.wp.com/www.workersunity.com/wp-content/uploads/2022/11/IMG20221113154927.jpg?resize=735%2C409&ssl=1

नए लेबर कोड्स के विरोध में नवंबर के महीने में दिल्ली में ट्रेड यूनियनों के कई बड़े प्रदर्शन किये। जिसमें 5-6-7 को टीयूसीआई ने जंतर मंतर पर धरना दिया। और 13 नवंबर को करीब डेढ़ दर्जन ट्रेड यूनियनों के मंच मासा ने रामलाली मैदान में एक बड़ा प्रदर्शन किया।

21 नवंबर को जंतर मंतर पर कई ट्रेड यूनियनों ने धरना दिया था।

वर्कर्स यूनिटी को सपोर्ट करने के लिए सब्स्क्रिप्शन ज़रूर लें- यहां क्लिक करें

(वर्कर्स यूनिटी के फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर सकते हैं। टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें। मोबाइल पर सीधे और आसानी से पढ़ने के लिए ऐप डाउनलोड करें।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.