इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के छात्रों का फीस वृद्धि के खिलाफ आमरण अनशन 17वें दिन भी जारी

इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के छात्रों का फीस वृद्धि के खिलाफ प्रदर्शन लगातार जारी है। छात्रों के आमरण अनशन का आज 17वां दिन  है।

आज भी बड़ी संख्या में छात्र यूनिवर्सिटी के छात्र संघ भवन पर इकट्ठा होकर प्रदर्शन कर रहे हैं। आज से छात्र संघ के निवर्तमान उपाध्यक्ष अखिलेश यादव समेत पांच नए छात्रों ने आमरण अनशन शुरू किया है।

आंदोलन कर रहे छात्रों का साफ तौर पर कहना है कि वह आर-पार की लड़ाई लड़ने को तैयार हैं और कतई पीछे नहीं हटेंगे।

कुलपति का जलाया गया पुतला

avp Live से मिली जानकारी के मुताबिक प्रदर्शनकारियों का कहना है कि यूनिवर्सिटी प्रशासन भले ही संवेदनहीन बना हुआ हो और अड़ियल रवैया अपनाए हुआ हो, लेकिन इसके बावजूद छात्रों का आंदोलन लगातार जारी रहेगा। प्रदर्शन के दौरान छात्रों ने आज वीसी ऑफिस पर कुलपति प्रोफेसर संगीता श्रीवास्तव का पुतला भी जलाया।

ये भी पढ़ें –

आमरण अनशन के सोलहवें दिन आज छात्रों का आंदोलन शांतिपूर्वक तरीके से चल रहा है। पिछले कई दिनों के आंदोलन में जमकर हंगामा हो रहा था।

प्रदर्शन कर रहे छात्रों का कहना है कि यूनिवर्सिटी प्रशासन के छात्रों की मांगे पूरी करने के लिए अभी तक राज़ी नहीं हुआ है यहां तक की अभी तक प्रदर्शन कर रहे छात्रों के प्रशासन का कोई सदस्य मिलने भी नहीं आया है, लेकिन इसके बावजूद छात्रों के हौसले बुलंद हैं।

कई छात्रों की हालत बिगड़ी

इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी प्रशासन ने 31 अगस्त को कार्य परिषद की बैठक बुलाकर रेगुलर कोर्स की फीस चार गुना तक बढ़ा दी थी। इसके साथ ही पीएचडी की फीस 15 गुना बढ़ा दी गई थी।

इसके विरोध में यूनिवर्सिटी के छात्र लगातार आंदोलन कर रहे हैं। छात्रों ने 5 सितंबर से आमरण अनशन शुरू कर दिया था। आमरण अनशन पर बैठे कई छात्रों की हालत अब तक बिगड़ चुकी है और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा है।

ये भी पढ़ें –

छात्रों का कहना है इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के लिए आने वाले ज्यादातर स्टूडेंट्स मध्यमवर्गीय और किसान परिवार से आते हैं। ऐसे में चार गुना बढ़ी हुई फीस को वह नहीं भर पाएंगे।

वर्कर्स यूनिटी को सपोर्ट करने के लिए सब्स्क्रिप्शन ज़रूर लें- यहां क्लिक करें

(वर्कर्स यूनिटी के फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर सकते हैं। टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें। मोबाइल पर सीधे और आसानी से पढ़ने के लिए ऐप डाउनलोड करें।)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.