https://www.workersunity.com/wp-content/uploads/2022/05/asam-tea-garden-labour-protest-by-pranjal-bavaik.jpg

असम में आदिवासी मज़दूरों का संघर्ष जारी, घाटी में धारा 144 लागू

असम के कछार जिले के डोलू चाय बागान में आदिवासी मज़दूरों का लगातार  प्रदर्शन जारी है। सिल्चर घाटी में धारा 144 लागू कर दी गई है । असम मोजुरी श्रमिक …

असम में आदिवासी मज़दूरों का संघर्ष जारी, घाटी में धारा 144 लागू पूरा पढ़ें
https://www.workersunity.com/wp-content/uploads/2021/07/migrant-workers-of-assam.jpg

भुखमरी से बचने के लिए मजदूर-किसानों ने बेची किडनी, किडनी रैकेट के जाल में फंसे 30 ग्रामीण

पूर्वोत्तर राज्य असम के कुछ इलाकों में रहने वाले लोग अत्यधिक गरीबी की वजह अपनी किडनी बेचने के लिए मजबूर हो रहे हैं। मोरीगांव जिले में दक्षिण धर्मातुल गांव में …

भुखमरी से बचने के लिए मजदूर-किसानों ने बेची किडनी, किडनी रैकेट के जाल में फंसे 30 ग्रामीण पूरा पढ़ें
https://www.workersunity.com/wp-content/uploads/2021/06/assam.png

मजदूरों की मांग के आगे झुकी असम सरकार, बिना पहचान पत्र भी हो सकेगा वैक्सीनेशन

चाय बागान क्षेत्रों में पहचान पत्र नहीं रखने वाले मजदूरों/नागरिकों के लिए ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन और वैक्सीनेशन शुरू होने की राह साफ हो गई है। यह मांग बागान मजदूर लंबे समय …

मजदूरों की मांग के आगे झुकी असम सरकार, बिना पहचान पत्र भी हो सकेगा वैक्सीनेशन पूरा पढ़ें
https://www.workersunity.com/wp-content/uploads/2021/05/tea-garden-workers.jpg

असम के चाय बागान मजूदरों की प्रतिदिन मजदूरी में 38 रुपये की बढ़ोतरी

असम के चाय बागान के श्रमिकों के दैनिक वेतन में शुक्रवार को 38 रुपये की बढ़ोतरी हुई। असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने इस बारे में असम चाह मजदूर …

असम के चाय बागान मजूदरों की प्रतिदिन मजदूरी में 38 रुपये की बढ़ोतरी पूरा पढ़ें
https://www.workersunity.com/wp-content/uploads/2021/05/kerala-bus-drivers-trapped-in-assam.jpg

प्रवासी मजदूरों को लेकर गईं केरल की 300 बसें क्यों फंसी हैं असम में?

प्रवासी मजदूरों को लेकर गईं केरल की करीब तीन सौ टूरिस्ट बसें और उनके ड्राईवर लगभग एक महीने से असम के पांच जिलों में फंस गए हैं। लंबी दूरी की …

प्रवासी मजदूरों को लेकर गईं केरल की 300 बसें क्यों फंसी हैं असम में? पूरा पढ़ें
chai bagan labour

मनरेगा से भी कम मज़दूरी में खटने को मज़बूर चाय बगान के मज़दूर

 कब तक मनरेगा से कम दिहाडी पर खटते रहेंगे असम के चाय बागानों के मजदूर देश की चाय की नहीं, चाय बागानों के मजदूरों की सुध लें पीएम असम के …

मनरेगा से भी कम मज़दूरी में खटने को मज़बूर चाय बगान के मज़दूर पूरा पढ़ें

जयपुर से असम जाकर ईंट भट्ठे में काम करते थे, दोबारा लॉकडाउन के डर से वापस लौट रहे

By खुशबू सिंह प्रवासी मज़दूरों को पहले लॉकडाउन ने बेरोज़गार किया, अब आने वाली बरसात ईंट भट्ठों पर काम करने वाले मज़दूरों के लिए बेरोज़गारी लाने वाली है। इन्हीं में से …

जयपुर से असम जाकर ईंट भट्ठे में काम करते थे, दोबारा लॉकडाउन के डर से वापस लौट रहे पूरा पढ़ें