ख़बरें

डेल्टा कंपनी के निकाले गए हज़ारों वर्कर भूख हड़ताल पर बैठे।

डेल्टा कम्पनी के श्रमिक तहसील परिसर रामनगर उत्तराखंड में अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर बैठ गए हैं।

श्रमिकों की मांग है कि उत्तराखण्ड की भाजपा सरकार कम्पनी के मालिक कपिल गुप्ता द्वारा उत्तराखण्ड सरकार से मांगी गयी कारखाना बन्द करने की याचिका को खारिज कर कम्पनी चालू करवाये ताकी हजारों महिलायें बेरोजगार होने से बच जायें।

10नवम्बर 2018

अनशन पर रजनी, सीमा, सुनीता देवी, चम्पा देवी,दीपक बैठे हैं। इंकलाबी मजदूर केंद्र ,उत्तराखण्ड परिवर्तन पार्टी ,रिचा श्रमिक सन्गठन , परिवर्तनकामी छात्र संगठन, समाजवादी लोक मंच , प्रगतिशील महिला एकता केंद्र व समाज कल्याण बोर्ड की पूर्व अध्यक्ष धनेश्वरी घिल्डियाल व उत्तराखण्ड क्रांति दल से पी सी जोशी ने मजदूर आंदोलन को अपना समर्थन दिया है।

 

12नवम्बर 2018

कपिल गुप्ता और उत्तराखंड की भाजपा सरकारऔर लिस का गठजोड़. एक.बार. फिर उजागर हुआ डाक्टर से फजी रपट बनवाई आमरण अनशन पर बैठे डेल्टा के मजदूऱो क़ो जबरन उठाया गया।

पर डेल्टा की अनशनकारी महिलाओं ने अनशन जारी रखा हुआ है । पांचों अनशनकारी अस्पताल से बिना इलाज कराए पुनः SDM कोर्ट में पहुंच गए फिर से अनशन पर बैठे।

डेल्टा मजदूरों के आगे झुकना पड़ा प्रशासन को, लेबर कमिशनर उत्तराखंड को आनन फानन में 12 नवंबर 2018 को वार्ता बुलानी पड़ी।मजदूरों ने वार्ता तक आमरण अनशन को क्रमिक अनशन में बदला।

SDM कोर्ट रामनगर जिला नैनीताल, उत्तराखंड में जारी है क्रमिक अनशन व धरना।

मजदूरों ने चेतावनी दी है कि यदि श्रमायुक्त उत्तराखंड की मध्यस्थता में होनी वाली वार्ता में समाधान की दिशा में सकारात्मक पहल न की गई तो आमरण अनशन किया जाएगा।

 

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र मीडिया और निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो करें।)

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
Close