हरियाणा रोडवेज़ हड़तालः एस्मा, निलंबन और गिरफ्तारियों से नहीं टूटी हड़ताल, समर्थन आग की तरह पूरे राज्य में फैल

हरियाणा रोडवेज़ कर्मचारियों के समर्थन में दो लाख सरकारी कर्मचारियों के सामूहिक छुट्टी पर जाने के दूसरे दिन 14 यूनियन नेताओं को गिरफ्तार किया गया है।

कर्मचारी यूनियनों ने शनिवार को बताया कि वरिष्ठ नेताओं के घर पर शुक्रवार को पुलिस दबिश देने पहुंची।

हरियाणा रोडवेज़ के कर्मचारी 16 अक्टूबर से ही हड़ताल पर हैं।

यूनियन नेताओं का कहना है कि शुक्रवार को राज्य के दो लाख कर्मचारी, हरियाणा रोडवेज़ कर्मचारियों के समर्थन में सामूहिक अवकाश पर चले गए थे।

ये भी पढ़ेंः हरियाणा रोडवेज़ कर्मियों ने खट्टर सरकार से आर पार की लड़ाई ठानी, हड़ताल 29 तक चलेगी

फरीदाबाद से 14 यूनियन नेता गिरफ्तार

हरियाणा रोडवेज़ एमप्लाईज़ तालमेल कमेटी ने बताया कि यूनियन नेता इंदर सिंह बढ़ाना, आज़ाद सिंह गिल, बाबू लाल यादव और अन्य 11 को फ़रीदाबाद से गिरफ्तार किया गया।

हरियाणा डीजीपी बीएस संधू ने कहा कि राज्य सरकार ने एस्मा लागू कर रखा है और इसी के तरह ये गिरफ्तारियां की गईं।

उन्होंने कहा कि इनमें से दो नेताओं को बेल मिल गई लेकिन प्रशासन ज़मानत रद्द कराने के लिए कोर्ट जाएगा।

ये भी पढ़ेंः एस्मा के बाद भी डीटीसी कर्मचारी हड़ताल पर अड़े, आज दिल्ली की सड़कों पर रहेगा सन्नाटा

haryana roadways employees
हरियाणा रोडवेज़ कर्मचारी 16 अक्टूबर से ही हड़ताल पर हैं। (फ़ोटो साभारः तालमेल कमेटी)

खट्टर सरकार ने तैयार की 15 नेताओं की लिस्ट

इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर के अनुसार, खट्टर सरकार ने 15 नेताओं की लिस्ट बनाई है जिनमें कुछ गिरफ्तार किये जा चुके हैं।

गिरफ्तार नेताओं में से कुछ सर्व कर्मचारी संघ के नेता भी शामिल हैं।

ये उन 102 यूनियनों का संयुक्त मंच है, जिन्होंने सामूहिक अवकाश पर जाने का आह्वान किया था।

शनिवार को एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर यूनियन नेताओं ने कहा कि सरकारी दमन के बावजूद 99 प्रतिशत रोडवेज़ कर्मचारियों ने हड़ताल में हिस्सा लिया।

अब तक प्रशासन ने 138 ड्राइवरों और कंडक्टरों को निलंबित किया जा चुका है और एस्मा के तहत उनपर एफ़आईआर दर्ज की जा चुकी है।

haryana roadways employees strike
शुक्रवार को रोडवेज़ कर्मियों के समर्थन में राज्य के 2 लाख सरकारी कर्मचारी सामूहिक अवकाश पर रहे। (फ़ोटो साभारः तालमेल कमेटी)

समर्थन में कूदी पीडब्ल्यूडी मैकेनिकल वर्कर्स यूनियन

हरियाणा गवर्नमेंट पीडब्ल्यूडी मैकेनिकल वर्कर्स यूनियन ने रोडवेज कर्मचारियों की हड़ताल के समर्थन में दो दिन ( 30-31 अक्टूबर ) को: हड़ताल करने का फैसला किया है।

यूनियन के राज्य प्रधान शिव कुमार पाराशर ने कहा कि सरकार निजीकरण के विरोध में रोडवेज़ कर्मियों की हड़ताल को अपने कुछ लोगों के लाभ के लिए असफल करना चाहती है, लेकिन प्रदेश के कर्मचारी सभी हमलों का मुकाबला करके हड़ताल को सफल बनाने का काम करेंगे।

उन्होंने कहा कि पीडब्ल्यूडी, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग, सिंचाई विभाग, भवन विभाग के हजारों कर्मचारी 2 दिन की हड़ताल पर रहेंगे।

haryana roadways employees strike
14 यूनियन नेताओ को अबतक किया गया गिरफ्तार, 138 निलंबित। (फोटो साभारः तालमेल कमेटी)

पूरे राज्य में फैली समर्थन की लहर

रोडवेज़ कर्मियों के हड़ताल में राज्य कर्मचारियों का समर्थन लगातार बढ़ता जा रहा है। आज 12वें दिन की हड़ताल में मिड डे मील वर्कर, सीटू, आशा वर्कर भी समर्थन में आ गए हैं।

जबकि प्राथमिक शिक्षक, एनएचएम कर्मी पहले ही रोडवेज कर्मचारियों को अपना समर्थन दे चुके हैं।

गुडग़ांव में प्रशासन का दावा है कि 120 बसों का नियमित संचालन किया जा रहा है और 905 परिचालक पदों के लिए भर्ती की प्रक्रिया तेज़ की जा रही है।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र और निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। इसके फ़ेसबुकट्विटरऔर यूट्यूब को फॉलो ज़रूर करें।)

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.