जेल की बैरकों जैसे वर्कर हॉस्टल, महिला हॉस्टल में 8 बजे के बाद जड़ दिया जाता है ताला

By खुशबू सिंह पूंजीवाद अब जहां पहुंच गया है, वहां उसके शब्दकोश से मज़दूर रिहाईश का शब्द लगभग ग़ायब हो चुका है। हालांकि पहले भी नहीं था और सिर्फ नाममात्र …

पूरा पढ़ें
Women worker neemrana daikin

‘लॉकडाउन में कंपनी ने निकाला, अब काम के बहाने यौन शोषण करना चाहते हैं ठेकेदार’

By खुशबू सिंह “काम के लिए मैंने कई कंपनियों और ठेकेदारों से संपर्क किया लेकिन किसी ने काम तो नहीं दिया। पर आधी रात को फ़ोन कर के परेशान ज़रूर …

पूरा पढ़ें