https://www.workersunity.com/wp-content/uploads/2021/05/surma.jpg

कोयला खनिकों से भी बदतर हालत फिर भी काजल बनाने वालों को क्यों नहीं माना जाता मज़दूर? – मई दिवस विशेष

By मेघा आर्या बात की जा रही है घर में रहकर उत्पादन कार्य करने वाले उन मजदूरों की जो मजदूर कहलाए जाने के हक से अभी तक वंचित हैं। घर …

पूरा पढ़ें
jharkhand mss

मज़दूर संगठन समिति के कार्यालय और श्रमजीवी अस्पताल पर ताला, नेताओं के खाते दो साल से सीज़

By रूपेश कुमार सिंह, स्वतंत्र पत्रकार मजदूर संगठन समिति (एमएसएस) पर झारखण्ड सरकार द्वारा प्रतिबंध लगे 2 साल से ज्यादा हो चुका है। सरकार बदल गई लेकिन अभी तक प्रतिबंध जारी …

पूरा पढ़ें