MCD polls : ‘आप’ ने सफाई कर्मियों को समय पर वेतन और नियमित करने का किया वादा

रविवार,  4  दिसंबर  को दिल्ली नगर निगम का चुनाव होना है। दिल्ली  के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बीते  गुरुवार को त्रिलोकपुरी, कोंडली और पटपड़गंज में  चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि, अगर आम आदमी पार्टी (आप) नगर निगम चुनाव जीतती है, तो यह सुनिश्चित किया जाएगा कि बेहतर साफ-सफाई हो। साथ ही सफाई कर्मचारियों के वेतन का भुगतान समय पर हो और सभी ठेका कर्मचारियों को नियमित किया जायेगा।

उन्होंने भाजपा  की आलोचना करते  हुए  कहा कि 15 सालों से दिल्ली नगर निगम में भाजपा की सरकार है। शहर को साफ रखने की अपनी जिम्मेदारी को पूरा करने में एमसीडी विफल रही है।

गौरतलब है कि चुनावी मौसम में जीत हासिल करने के लिए राजनीतिक दल  ढेर सारे लुभावने वादे करते  हैं।  मनीष सिसोदिया का यह  वादा भी एक चुनावी वादा ही है और वे इसे किस तरह और कब तक पूरा करते हैं यह तो चुनाव परिणाम और  आने वाला समय ही बतायेगा।

ये भी पढ़ें-

‘आप’ का वादा

उन्होंने कहा कि अगर आम आदमी पार्टी (आप) नगर निगम चुनाव जीतती है, तो यह सुनिश्चित किया जाएगा कि बेहतर साफ-सफाई हो। साथ ही सफाई कर्मचारियों के वेतन का भुगतान समय पर हो और सभी ठेका कर्मचारियों को नियमित किया जायेगा।

सिसोदिया ने जनता से दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) में भाजपा के ‘कुशासन’ को खत्म करने के लिए उनकी पार्टी को वोट देने का आग्रह किया। सिसोदिया ने कहा, ‘अगर भाजपा और कांग्रेस के पार्षद चुने जाते हैं, तो वे अपना कार्यकाल लड़ते हुए बीता देंगे। विकास कार्यों में तेजी लाने के लिए लोगों को आप को चुनना होगा। सिर्फ आप पार्षद ही सारा काम करवा सकेगा।’

ज्ञात हो कि इसी पहले भी दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने 2013 में पहली बार केंद्र शासित प्रदेश में सत्ता में आने से पहले सरकारी कर्मचारियों और शिक्षकों के वोट हासिल करने के लिए इसी तरह का वादा किया था।

हालाँकि, इस वादे पर कुछ ठोस नहीं हुआ। कई साल बीत चुके हैं लेकिन अभी तक तमाम सरकारी विभागों में ठेका मज़दूरों को परमानेंट नहीं किया गया है।

ये भी पढ़ें-

भाजपा पर लगाए आरोप

वहीं सिसोदिया  ने आरोप लगाया कि,  भाजपा के शासन ने सफाई कर्मचारियों को कई महीनों तक वेतन का भुगतान नहीं किया जाता है। दिल्ली को कूड़ा स्थल में बदल दिया है।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि कई सफाई कर्मचारी सेवानिवृत्त हो गए, लेकिन उनका वेतन अब भी लंबित है। पेंशन भी नहीं मिल रही है। उन्होंने वादा किया, ‘अरविंद केजरीवाल की पार्टी एमसीडी की सत्ता में आएगी, तो सभी सफाई कर्मचारियों के वेतन संबंधी मुद्दों और ठेका कर्मचारियों को नियमित करने के मामलों को सुलझा लिया जाएगा।

उन्होंने कहा, सभी सफाई कर्मचारियों को समय पर वेतन मिलेगा और सभी संविदा कर्मचारियों को नियमित किया जाएगा। उन्होंने आरोप लगाया कि ‘भाजपा बच्चों को अनपढ़ बनाए रखना चाहती है।’ उन्हें गरीब बच्चों की पढ़ाई से भी दिक्कत है। इसलिए उन्होंने एमसीडी के स्कूलों की मरम्मत नहीं कराई और अब वे बेहद जर्जर स्थिति में हैं।

‘आप’ नेता और राज्यसभा सांसद राघव चड्ढा ने देवली में कहा कि भाजपा ने दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) को ‘सबसे भ्रष्ट विभाग’ बना दिया है। अब एमसीडी को भ्रष्टाचार से मुक्ति दिलानी है। नगर निगम चुनाव से पहले ‘आप’ के अन्य नेता गोपाल राय, सुशील गुप्ता, कैलाश गहलोत, राज कुमार आनंद और पंजाब के मंत्री हरजोत बैंस ने नगर के विभिन्न हिस्सों में कई सभाएं कीं।

ये भी पढ़ें-

https://i0.wp.com/www.workersunity.com/wp-content/uploads/2021/05/safai-karmchari-MCD.jpg?resize=735%2C409&ssl=1

नियमित करने का दिखावा

नाम न बताने की शर्त पर एक सफाई कर्मचारी ने वर्कर्स यूनिटी की बताया कि “मैं बीते 25 सालों से MCD में ठेका मज़दूर के तौर पर काम करता हूँ। हर बार MCD चुनाव से लगभग 6 महीने पहले सभी ठेका कर्मचारियों को नियमित करने की प्रक्रिया को शुरू किया जाता है। बोला जाता है MCD चुनाव से पहले सभी को नियमित कर दिया जायेगा। लेकिन जैसे ही चुनाव हो जाते हैं वैसे ही प्रशासन अपने वादों को भूल जाता है।”

उन्होंने बताया कि अबकी बार भी यही हुआ, हम लोगों से नियमित करने के नाम पर सभी जरुरी कागजात जमा करवाए गए हैं। अब कल चुनाव हैं और अभी तक  कुछ नहीं हुआ है

गौरतलब है कि दिल्ली नगर निगम में बीते 25 सालों से काम कर रहे ठेका कर्मचारियों को अभी तक नियमित नहीं किया गया है। सफाई कर्मचारियों ने नियमित करने की मांग को लेकर सैकड़ों बार प्रदर्शन भी किया है।

ये भी पढ़ें-

ठेका कर्मचारियों के प्रदर्शन

बीते जून के महीने में एक प्रदर्शन के दौरान MCD स्वच्छता कर्मचारी यूनियन के सदस्य, नवीन ने वर्कर्स यूनिटी से बातचीत में कहा था -,

“हम लोगों ने कई बार अपना माँग पत्र सरकार को सौंपा है, लेकिन अभी तक सरकार की तरफ से कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं आई है, इसी कारण हम लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं।”

उनका आरोप था कि सरकार उनकी मांगों की तरफ बिलकुल भी ध्यान नहीं दे रही है।

वहीं बीते 15 अक्टूबर को भी दिल्ली नगर निगम के ठेका सफाई कर्मचारियों ने अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू कर दी थी। दिल्ली नगर निगम समस्त यूनियन कोर कमिटी के प्रेजिडेंट संत लाल चावरिया ने बताया था कि वे  (सफाई  कर्मी ) कई बार निगम अधिकारियों के आश्वासन के बाद हड़ताल को स्थगित कर देते हैं या खत्म कर देते हैं, लेकिन जो आश्वासन अधिकारी देते हैं, उन्हें पूरा नहीं किया जाता। आज भी 20 साल से अधिक समय से कर्मचारी स्थायी होने की राह देख रहे हैं।

वर्कर्स यूनिटी को सपोर्ट करने के लिए सब्स्क्रिप्शन ज़रूर लें- यहां क्लिक करें

(वर्कर्स यूनिटी के फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर सकते हैं। टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें। मोबाइल पर सीधे और आसानी से पढ़ने के लिए ऐप डाउनलोड करें।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.