ख़बरेंप्रमुख ख़बरें

तेलंगाना के श्रीशैलम अंडरग्राउंड पॉवर प्लांट में भीषण आग, 9 कर्मचारियों की मौत

कृष्णा नदी के नीचे बनाया गया है अंडरग्राउंड जल विद्युत संयंत्र, 25 लाख रुपये मुआवज़ा और एक आश्रित को सरकारी नौकरी का वादा

तेलंगाना की श्रीशैलम जलविद्युत संयंत्र में गुरुवार को लगी आग में अभी तक नौ कर्मचारियों के शव बरामद हुए हैं।

आग गुरूवार रात 10.30 बजे शॉर्ट सर्किट से लगी, जिसके कारण मौके पर मौजूद 17 कर्मचारी हाइड्रो इलेक्ट्रिक प्लांट के अंदर फंस गए।

एएनआई के हवाले मिली खबर के अनुसार, आग लगने से प्लांट के अंदर धुआं भर गया जिससे वहां पर काम करने वाले कर्मचारियों की मौत हो गई।

इनमें छह टीएस गेंको हाइडिल पॉवर स्टेश के कर्मचारी थे जबकि तीन ठेका वर्कर थे।

तेलंगाना में कृष्णा नदी के नीचे सुरंग बनाकर 900 मेगावाट की क्षमता के साथ, 150 मेगावाट की क्षमता वाली छह इकाइयाँ बनाई गई हैं।

डिवीजनल इंजीनियर, चार असिस्टेंट इंजीनियर, दो जूनियर अटेंडेंट और दो अन्य लोग अंदर फंसे ही रह गए थे।

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (केसीआर) ने घटना की सीआईडी ​​जांच के आदेश दिए और कहा कि दुर्घटना के कारणों का पता लगाया जाना चाहिए और जिन परिस्थितियों के कारण दुर्घटना हुई है, उनका पता लगाया जाना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने जांच अधिकारी नियुक्त करते हुए दुर्घटना की पूरी जांच करने और सरकार को रिपोर्ट देने को कहा है।

राज्य के ऊर्जा मंत्री जगदीश रेड्डी ने कहा कि मृतक कर्मचारियों के परिजनों को 25 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा और मृतक के परिवार एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाएगी

srisailam left bank Hydro electric project in Telangana

बीबीसी तेलुगू के मुताबिक छह कर्मचारियों का इलाज़ गेंको के ही अस्पताल में किया जा रहा है।

पिछले कुछ महीनों में औद्योगिक दुर्घटनाएं तेज़ी से बढ़ी हैं और इनमें दर्जनों मज़दूर अपनी जान से हाथ धो बैठे हैं। ट्रेड यूनियनों का आरोप है कि सुरक्षा उपायों को नज़रअंदाज़ किए जाने की वजह से दुर्घटनाओं में तेज़ी आई है।

उल्लेखनीय है कि बीजेपी सरकार तमाम श्रम क़ानून ख़त्म करने के साथ ही कार्यस्थल पर सुरक्षा मानकों में भी कंपनियों को खुली ढील दे चुकी है और इसके लिए बक़ायदा सेफ़्टी ऐक्ट में बदलाव को अमली जामा पहनाने जा रही है।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं। वर्कर्स यूनिटी के टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें।)

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Enable Notifications    Ok No thanks