कोरोनाख़बरेंप्रमुख ख़बरें

गुजरात में फंसे वर्करों को लाने के लिए ओडिशा सरकार बसें भेजेगी, यूपी, छत्तीसगढ़ भी तैयार

ओडिशा के 7.5 लाख लोग अन्य राज्यों में फंसे, दूसरे राज्यों के 87,000 लोग ओडिशा में

ओडिशा सरकार ने गुजरात में अपने राज्य के फंसे हुए मज़दूरों को वापस लाने का फैसला किया है।

रविवार को ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी से इस संबंध में बात की और लॉकडाउन के दौरान मज़दूरों को वापस लाने की योजना पर चर्चा की।

असल में रविवार को नवीन पटनायक, विजय रुपानी और केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के बीच वीडियो कांफ्रेंसिंग के ज़रिए बातचीत हुई।

इसमें ये तय किया गया कि मज़दूरों को लाने की योजना बनाने के लिए दोनों राज्यों के दो वरिष्ठ आईएएस अफ़सरों की एक तालमेल कमेटी बनेगी।

पहले चरण में कुछ वर्करों को बस से लाया जाएगा, जबकि बात में स्थिति का अंदाज़ा लेने के बाद जल मार्ग या रेल मार्ग से लाने पर विचार किया जाएगा।

ग्रेटर नोएडा से पैदल चल पड़े थे सासाराम, कानपुर से पहले ही लौटाए गए

कासना में बिहार के सासाराम के मजदूर। कानपुर पहुंचने से पहले ही पुलिस ने उन्हें वापस लौटा दिया।

Posted by Workers Unity on Saturday, April 25, 2020

ऐसी भी ख़बर है कि ओडिशा सरकार इसी तरह महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ की सरकारों से भी वार्ता चला रही है और इन राज्य सरकारों से ये अपील की जाएगी कि मज़दूरों को गुजरात से ओडिशा लाने के दौरान वो रोड टैक्स न वसूलें।

इससे पहले, ओडिशा सरकार ने आने वाले वर्करों के लिए रजिस्ट्रेशन को अनिवार्य बना दिया है और इन्हें 14 दिन तक सरकारी कैंपों में क्वारेंटीन में रहना होगा।

हाल ही में कोविड-19 की महामारी से निपटने के लिेए नवीन सरकार ने एक आदेश जारी कर पंचायतों के सरपंचों को कलेक्टर की पॉवर दे दी है।

कोयंबटूर में फंसे मज़दूरों ने दिया Modi Yogi को चैलेंज, 3 मई के बाद पैदल ही चल देंगे घर

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के संसदीय क्षेत्र गोरखपुर के कई मज़दूर इस समय कोयंबटूर में फंसे हुए हैं। उन्होंने वीडियो बनाकर नरेंद्र मोदी और योगी आदित्यनाथ को चैलेंज दिया है कि अगर 3 मई तक उनके जाने का प्रबंध नहीं होता है, वो पैदल ही चल देंगे।

Posted by Workers Unity on Sunday, April 26, 2020

ओडिशा के लेबर कमिश्नर ने ट्वीट कर बताया है कि राज्य में कुल 2610 कैंप बनाए गए हैं जिनमें 87,000 वर्करों को रखा गया है। ये सभी मुख्य रूप से पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और छत्तीसगढ़ के हैं।

ओडिशा सरकार का आंकलन है कि राज्य के 7.5 लाख लोग अन्य राज्यों में फंसे हुए हैं, जिन्हें 3 मई के बाद वापस लौटना है। इनमें पांच लाख लोग ग्रामीण इलाक़ों से हैं जबकि 2.5 लाख लोग राज्य के शहरी इलाक़ों से हैं।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं। वर्कर्स यूनिटी के टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें।)

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Enable Notifications.    Ok No thanks