ख़बरेंप्रमुख ख़बरें

रेलवे की ये यूनियन करेगी आम मजदूरों की मदद, जारी की हेल्पलाइन

रेलवे ने अपने सामुदायिक केंद्रों को कॉरंटइान सेंटर में तब्दील किया

By आशीष सक्सेना

कोरोना वायरस की वैश्विक महामारी के समय जहां सरकार नीम हकीमी नुस्खों से काम चला रही है, रेलवे कर्मचारियों एक बार फिर ऐतिहासिक कदम उठाने की कोशिश की है।

पूर्वोत्तर रेलवे कार्मिक यूनियन ने रेल से जुड़े स्थायी, कैजुअल, ठेका श्रमिकों को ही नहीं, बल्कि उन सभी मजदूरों की सहायता का निर्णय लिया है, जो उनके आसपास हैं।

पुरकू के महामंत्री राकेश मिश्रा ने कहा कि ‘आज रेलवे कर्मचारी भले ही कठिनाई के दौर से गुजर रहे हों, लेकिन इन कठिनाइयों के बावजूद सार्वजनिक संस्थान होने का लाभ हमें अभी तक हासिल है।’

‘ये अहसास सभी सार्वजनिक संस्थानों के कर्मचारियों और उनसे लाभ लेने वाले सभी नागरिकों को भी हो रहा होगा। ऐसे भीषण संकट में देश की सेवा सरकारी संस्थान जीजान से कर रहे हैं और वही विश्वनीय भी हैं।’

उन्होंने कहा कि यही भरोसा हासिल किया है इन उपक्रमों ने, जिसको बचाया जाना चाहिए।

आठ लाख की आबादी पर एक अस्पताल, सिर्फ 5 आइसोलेशन बेड

कोरोना और उससे लड़ने की ऐसी तैयारियां हैं झारखंड के लातेहार में।लातेहार ज़िला अस्पताल से लाईव Abhinav Kumar

Posted by Workers Unity on Saturday, March 21, 2020

राकेश मिश्रा ने बताया कि सरकारी निर्देशों पर इस समय रेलवे के सभी कारखाने और मालगाड़ी को छोड़कर ट्रेनों का संचालन बंद कर दिया गया है।

रेलवे ने अपने सामुदायिक केंद्रों को कॉरंटइान सेंटर में तब्दील कर दिया है।

रेलवे के पास इसके अलावा भी बहुत साधन हैं, जिनका लाभ हर नागरिक, खासतौर पर हर क्षेत्र के श्रमिकों को इस वक्त मिलना चाहिए, ऐसा रेलवे कर भी रहा है।

उन्होंने कहा कि ‘इसके बावजूद असंगठित क्षेत्र के या आम मजदूरों को इस बारे में शायद नहीं पता हो, इसलिए हमारी यूनियन उनकी भी सहायता करेगी।’

पूर्वोत्तर रेलवे जोन में कहीं भी कोई हमारी सहायता चाहेगा तो उसे संबंधित क्षेत्र में भी मदद मिलेगी।

किसी भी श्रमिक को रेलवे अस्पताल में जांच या कॉरंटाइन सेंटर में पहुंचने के लिए समस्या आ रही हो तो वे यूनियन की हेल्पलाइन 7607606699 पर संपर्क कर सकते हैं।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं।)

Show More

Related Articles

Back to top button
Close