ख़बरेंप्रमुख ख़बरें

दिल्ली के डॉक्टरों का तीन माह से बकाया है वेतन, राज्यपाल ने भी नहीं की कोई मदद

जब भी वेतन की बात करो तो दिल्ली सरकार और एमसीडी एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप का खेल खेलने लगती हैं।

उत्तरी दिल्ली नगर निगम (नॉर्थ एमसीडी) के तहत आने वाले दो अस्पतालों- कस्तूरबा और हिंदू राव के 350 से अधिक रेजिडेंट डॉक्टरों को तीन से चार महीने तक का वेतन नहीं मिला है।

वेतन न मिलने से नाराज डॉक्टरों ने सामूहिक इस्तीफा देने की बात कही है। उन्होंने अपनी मांगें मानने के लिए एक सप्ताह का समय दिया है।

इस संबंध में नगर निगम डॉक्टर एसोसिएशन ने भी शुक्रवार को एलजी को पत्र लिखा था कि, यदि वरिष्ठ डॉक्टरों के वेतन का भुगतान नहीं किया गया तो वे सामूहिक इस्तीफे पर जाएंगे।

वेतन के संबंध में डॉक्टरों के विभिन्न संगठन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपराज्यपाल अनिल बैजल से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक को पत्र लिख चुके हैं। हालांकि, इसका कोई नतीजा नहीं निकला है।

नॉर्थ एमसीडी के तहत काम करने वाले करीब 3,000 स्वास्थ्य कर्मचारियों का तीन महीने से अधिक समय से वेतन बकाया है।

उत्तरी दिल्ली नगर निगम के तहत गिरधर लाल मातृत्व अस्पताल से जुड़े, डॉ. आर. आर. गौतम ने कहा, ‘हमें अपने वेतन के लिए कब तक भीख माँगनी पड़ेगी… महामारी की स्थिति में भी हम अपने परिवार की जान जोखिम में डाल कर काम कर रहे हैं, अतिरिक्त घंटे लोगों की सेवा कर रहे हैं। प्रशासन को हमारे बारे में सोचना चाहिए। और हमें वेतन के लिए विनती ना करनी पड़े’।

वे आगे कहते हैं, जब भी वेतन की बात करो तो दिल्ली सरकार और एमसीडी एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप का खेल खेलने लगती हैं।

शॉपर्स स्टॉप और रेमंड से लेकर छोटे रिटेलर्स तक- हजारों लोगों ने अपनी नौकरी खो दी है
बिना मुआवज़ा दिए, धारूहेड़ा की कंपनी ने 15 साल पुराने 200 ठेका मज़दूरों को निकाल बाहर किया

दिल्ली उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को उत्तरी दिल्ली नगर निगम के कस्तूरबा गांधी और हिंदू राव सहित छह अस्पतालों में रेजिडेंट डॉक्टरों के बकाया वेतन को लेकर 19 जून तक भुगतान करने का निर्देश जारी किया है।

पीठ ने केंद्र, दिल्ली सरकार, उत्तर एमसीडी और विभिन्न डॉक्टरों के संघ को भी नोटिस जारी किया, जो कि उच्च न्यायालय द्वारा शुरू की गई जनहित याचिका पर अपना पक्ष रखने की मांग कर रहे हैं। इस मामले में विस्तृत आदेश की प्रतीक्षा की जा रही है। जिसकी सुनवाई 8 जुलाई को होने वाली है।

दिल्ली सरकार ने दावा किया है कि कर्मचारियों के बकाया वेतन का भुगतान करने के लिए उनके पास राशि नहीं है। इसीलिए दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने 31 मई को ट्वीटर के जरिए केंद्र सरकार से मदद माँगते हुए लिखा था।

“मैंने केंद्रीय वित्त मंत्री को चिट्ठी लिखकर दिल्ली के लिए 5 हज़ार करोड़ रुपए की राशि की माँग की है। कोरोना व लॉकडाउन की वजह से दिल्ली सरकार का टैक्स कलेक्शन क़रीब 85% नीचे चल रहा है। केंद्र की ओर से बाक़ी राज्यों को जारी आपदा राहत कोष से भी कोई राशि दिल्ली को नहीं मिली है”।

उनके इस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए दिल्ली के मुख्य मंत्री अरविंद केजरीवाल ने लिखा था, “केंद्र सरकार से निवेदन है कि आपदा की इस घड़ी में दिल्ली के लोगों की मदद करे”।

इतने प्रयासों के बाद भी उत्तरी दिल्ली नगर निगम के तहत आने वाले दो अस्पतालों के हाथ निराशा ही लगती हुई नज़र आ रही है।

(इस खबर में प्रकाशित कुछ हिस्सों को इंडियन एक्सप्रेस से लिया गया है।)

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं। वर्कर्स यूनिटी के टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें।)

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Enable Notifications    Ok No thanks