असंगठित क्षेत्रकोरोनाख़बरेंप्रमुख ख़बरेंमेहनतकश वर्ग

उत्तराखंड में तंगहाली की बलि चढ़ा युवा मजदूर, राममंदिर भूमि पूजन के दिन 11वीं आत्महत्या

दिल्ली में प्राइवेट नौकरी करने वाला जगदीश लॉकडाउन के बाद हो गया था बेरोजगार

उत्तराखंड के बागेश्वर जिले में तिलसारी गांव का रहने वाले 25 वर्षीय जगदीश ने तंगहाली और बेरोजगारी से तंग आकर जिंदगी को अलविदा कह दिया। अयोध्या के जश्र की चर्चा के बीच जैसे ही ये खबर मिली तो गांव में मातम छा गया।

जगदीश दिल्ली में प्राइवेट नौकरी करता था। लॉकडाउन के बाद वह बेरोजगार हो गया। बचत के रुपए खत्म हो गए तो वह एक अगस्त को अपने गांव तिलसारी आ गया। यहां आने के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उसे होम क्वारंटीन कर दिया। तब से वह घर पर ही था।

घर वालों का कहना है कि जगदीश दिल्ली से आने के बाद परेशान रहता था। गांव में खास कमाई का साधन नहीं है। परिवार की माली हालत सही नहीं है। वह बहुत मिलनसार था, लेकिन इस बीच गांव में अन्य लोगों से भी नहीं मिल पा रहा था।

वह रात में खाना खाने के बाद कमरे में सो गया। सुबह देर तक कमरा नहीं खुला तो घर वालों ने किसी तरह दरवाजा खोला, अंदर जगदीश फांसी पर लटका था।

उत्तराखंड के वरिष्ठ पत्रकार चंद्रशेखर जोशी का कहना है कि दिनों-दिन बढ़ती जा रही युवाओं की आत्महत्या का सरकार के पास कोई हल नहीं है। उत्तराखंड में पिछले तीन महीनों में करीब 11 युवक अपनी जान दे चुके हैं।

अन्य राज्यों का हाल भी यही है। सरकार रोजगार, शिक्षा और स्वास्थ्य की बेहतरी के लिए प्रयास छोड़ लोगों को धर्म का नशा देकर मस्त करने में जुटी है।

(घटना की सूचना व तस्वीर पत्रकार चंद्रशेखर जोशी की फेसबुक वॉल से साभार)

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं। वर्कर्स यूनिटी के टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें।)

 

Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Enable Notifications    Ok No thanks