ख़बरेंप्रमुख ख़बरेंमेहनतकश वर्ग

रिपब्लिक भारत टीवी चैनल के पत्रकार ने की आत्महत्या

लॉकडाउऩ में नौकरियां जाने से परेशान पत्रकार, आत्महत्या की ख़बरें नहीं रुक रहीं

कोरोना के कारण हुए लॉकडाउन के दौरान पूरे देश में आत्महत्याओं की लगातार ख़बरें आ रही हैं।

ऐसी ही एक ख़बर वाराणसी से है जहां एक पत्रकार ने पुल से कूद कर आत्महत्या की कोशिश की और इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।  पत्रकार का नाम रोहित श्रीवास्तव है।

उल्लेखनीय है कि लॉकडाउन के दौरान अन्य सेक्टरों की तरह मीडिया में भी बड़े पैमाने पर नौकरियां गई हैं और सैकड़ों पत्रकार बेरोज़गार हुए हैं।

13 अगस्त की सुबह ही रांची में प्रेस ट्रस ऑफ़ इंडिया न्यूज एजेंसी के सीनियर पत्रकार पीवी रामानुजम ने आत्महत्या कर ली थी।

स्थानीय मीडिया में आई ख़बरों के अनुसार, रोहित श्रीवास्तव सिगरा थाना क्षेत्र के रघुवर नगर कालोनी में किराए के मकान में रहते थे।

आठ अगस्त को उनके बड़े भाई गौरव ने गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखाई थी और कहा था कि वो 4 अगस्त से ही गायब हैं।

बीते 12 अगस्त को पता चला कि विश्वसुंदरी पुल से कूदकर रोहित ने आत्महत्या करने की कोशिश किया है।

मल्लाहों एवं गोताखोरों की मदद से युवक को बाहर निकालकर बीएचयू ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया। इसके दूसरे दिन ही इलाज के दौरान रोहित की मौत हो गई।

उल्लेखनीय है कि बीती जुलाई की शुरुआत में ही दिल्ली के एम्स ट्रॉमा सेंटर में कोविड-19 का इलाज करा रहे 37 वर्षीय एक अन्य पत्रकार ने अस्पताल की बिल्डिंग से कूद कर आत्महत्या कर ली थी।

पत्रकार तरुण सिसोदिया हिंदी अख़बार दैनिक भास्कर में काम करते थे और नौकरी जाने का भय उन्हें काफ़ी परेशान कर रहा था।

इधर स्वास्थ्य महकमे में भी आत्महत्या की ख़बरों से सनसनी पैदा हो गई है, जब दिल्ली एम्स जैसे अस्पताल के तीन डॉक्टरों ने खुदकुशी कर ली।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं। वर्कर्स यूनिटी के टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें।)

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Enable Notifications    Ok No thanks