कोरोनाख़बरेंप्रमुख ख़बरेंमेहनतकश वर्ग

मानेसर मारुति कार प्लांट में 21 मज़दूरों के कोरोना पॉज़िटिव मिलने से हड़कंप

यूनियन का दावा- कंपनी में सुरक्षा के कड़े मानकों का किया जा रहा पालन

मानेसर में स्थित मारुति सुज़ुकी कार प्लांट के 21 मज़दूर कोरोना पॉज़िटिव मिले हैं, लेकिन कंपनी को चालू रखा गया है।

लॉकडाउन ख़त्म होने के बाद ऑटो मेकर कंपनियों और वेंडर कंपनियों में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार मिल रहे हैं जिससे एक दहशत का माहौल है।

मज़दूर यूनियन का कहना है कि जबसे कंपनी खुली है तबसे लेकर अबतक की ये संख्या है और इनमें अधिकांश लोग ठीक हो चुके हैं।

फिलहाल मानेसर कार प्लांट में कुल 4700 मज़दूर काम कर रहे हैं और उनकी सुरक्षा के लिए कंपनी ने उपाय किए हैं।

मारुति सुजकी वर्कर्स यूनियन के प्रेसिडेंट अजमेर यादव का कहना है कि चार पांच लोगों को छोड़कर सभी मज़दूर रिकवर कर गए हैं।

कंपनी के अंदर हुआ संक्रमण?

उनके अनुसार, ‘कुछ सिक्योरिटी गार्ड कोरोना पॉज़िटिव थे लेकिन अब वे भी ठीक हैं। कंपनी में सुरक्षा के पर्याप्त उपाय किए गए हैं।’

‘मज़दूरों को लाने के लिए बसों की संख्या दोगुनी कर दी गई है ताकि सोशल डिस्टेंसिंग बनाई रखी जा सके। गेट के अंदर आते ही हर मज़दूर का तापमान चेक किया जाता है और सैनेटाइज़र टनल से गुजारा जाता है।’

‘हर मज़दूर को मास्क, सुरक्षा के अन्य उपकरण और दूर दूर बैठने की व्यवस्था की गई है। कैंटीन में भी सुरक्षा के यही मानक लागू किए गए हैं।’

उनके मुताबिक, ‘जितने भी मज़दूर कोरोना पॉज़िटिव पाए गए, वो कंपनी के बाहर थे। कंपनी में रहते हुए ये संक्रमण नहीं हुआ है।’

लेकिन एक कैजुअल मज़दूर ने नाम न ज़ाहिर करने की शर्त पर दावा किया कि ये मारुति के मानेसर कार प्लांट के अंदर काम करने वाले मज़दूर संक्रमित हुए हैं।

मज़दूरों में डर

मज़दूर ने बताया कि ‘जिस भी असेंबली लाइन पर कोई मज़दूर कोरोना पॉज़िटिव पाया जाता है, उसे अस्पताल में भर्ती कर दिया जाता है और बाकी मज़दूरों को घर पर क्वारेंटाइन करने का आदेश दे दिया जाता है।’

इस कैजुअल मज़दूर के अनुसार,  “असेंबली लाइन को सैनेटाइज़ कर तुरंत इसे चालू कर दिया जा रहा है। जिससे मज़दूरों में एक किस्म की दहशत का माहौल है।”

मज़दूरों के बीच उन वर्करों के नाम की लिस्ट वायरल हो रही है जो कोरोना संक्रमित हुए हैं।

13 जून को सुज़ुकी बाइक में एक कैजुअल वर्कर की कोरोना रिपोर्ट पॉज़िटिव आई थी, जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती होने में काफ़ी मशक्कत करनी पड़ी।

इसी तरह की ख़बर मानेसर के होंडा प्लांट में भी कोरोना के कुछ मामले सामने आए हैं लेकिन अभी कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं। वर्कर्स यूनिटी के टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें।)

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Enable Notifications    Ok No thanks