कोरोनाख़बरेंप्रमुख ख़बरें

डेल्टा फैक्ट्री में 29 मज़दूर कोरोना संक्रमित, पास की फैक्ट्रियों को रखा है चालू

29 मज़दूरों के संक्रमित पाए जाने के बाद यूनियन 500 और मज़दूरों का चेकअप कराने की मांग कर रहा है

उत्तराखंड के रुद्रपुर के औद्योगिक श्रेत्र सिडकुल के पंतनगर में डेल्टा इलेक्ट्रानिक्स कंपनी में एक साथ 29 मज़दूर कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।

इससे पहले राकेट रिध्दी-सिध्दी में ताबड़तोड 3 श्रमिक कोरोना की चपेट में आगए थे।

वहीं ब्रिटानियां कपनी में एक मज़दूर को कोरोना होने की खबर सामने आई थी। एक साथ इतने सारे लोग कोरोना संक्रमित पाए जा रहे हैं। इससे अन्य मज़दूरों में डर बैठ गया है।

मेहनतकश के अनुसार कंपनी में काम करने वाले कई मज़दूर लंबे समय से बीमार चल रहे थे।

प्रबंधन उनका चेकअप कराने की बजाए जबरन उनसे काम कराता था। जिससे अन्य मज़दूर भी चपेट में आगए हैं।

कड़ी मशक्कत के बाद 2 मज़दूरों का कोरोना चेकअप कराया गया जिसमें वे लोग कोरोना संक्रमित पाए गए।

बाकी के मज़दूरों का चेकअप कराने के लिए यूनियन कंपनी पर दबाव बना रहा है, लेकिन प्रबंधन टस से मस नहीं हो रहा है।

 

काम बंद करने के बाद प्रबंधन ने कराया चेकअप

संक्रमित मरीजों को कंपनी ने रुद्रपुर के जिन्जर अस्पताल में भर्ती कराया है।

कंपनी प्रबंधन ने मज़दूरों को आदेश दिया था कि जो लोग बीमार हैं वे अपनी छुट्टी वाला कम कर के  घर पर अराम करे। प्रबंधन के इस रवैये से मज़दूरों में रोश का महौल पैदा हो गया है।

कंपनी के हठ से परेशान मज़दूरों ने काम ठप कर दिया और अपने जगह पर खड़े हो  गए।

काम बंद होने से कंपनी ने फौरन केवल 40 मज़दूरों का चेकअप कराया जिसमें 27 श्रमिक कोरोना संक्रमित निकले।

यूनियन 500 और मज़दूरों की चेकअप कराने की मांग कर रहा है।

स्वास्थ्य विभाग ने डेल्टा को अपने अंतर्गत ले लिया है और उसे कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया है।

डेल्का के आस-पास की कंपनियां चल रही है। वहां पर काम करने वाले मज़दूर डरे हुए हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक 6 अगस्त को उधमसिंहनगर में कोरोना के 71 मामले सामने आए थे।

इसमें से 27 संक्रमित पंतनगर सिडकुल की डेल्टा कंपनी में काम करने वाले हैं।

हिंदुस्तान यूनिलीवर के 200 मज़दूर कोरोना संक्रमित

हालात ये है कि रुद्रपुर के एक हॉस्पिटल में कोरोना संक्रमित मिलने के कारण 72 घंटे के लिए स्वास्थ्य विभाग ने अस्पताल को  सीज किया है।

रुद्रपुर के मेयर कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इनके इलाके को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया है।

पूरे औद्योगिक इलाके में श्रमिकों से लगातार काम कराया जा रहा है। पर मज़दूरों की सुरक्षा को लेकर प्रबंधन चुप है।

सबसे पहले 200 मज़दूर हिंदुस्तान यूनिलीवर, हरिद्वार में संक्रमित पाए गए थे। डेल्टा के बाद यह सबसे बड़ा आंकड़ा है।

कई फैक्ट्रियों में कोरोना के चलते अधिकारियों के मरने की खबरे भी सामने आई है।

ठीक तरह से फैक्ट्रियों में अगर चेकअप किया जाए तो कोरोना मरीजों की बाढ़ आजाएगी।

कंपनी प्रबंधन मज़दूरों के स्वास्थ्य को दर किनार कर के मुनाफे पर ज्यादा ध्यान दे रहा है।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसकेफ़ेसबुकट्विटरऔरयूट्यूबको फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं। वर्कर्स यूनिटी के टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करने के लिएयहांक्लिक करें।)

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Enable Notifications    Ok No thanks