ख़बरेंप्रमुख ख़बरेंमज़दूर राजनीति

पहली बार रविवार को अवकाश की मांग उठाने वाले नारायण मेघाजी लोखंडेः इतिहास के झरोखे से

19वीं शताब्दी में अंग्रेज़ी ग़ुलामी के दौरान मज़दूरों से बिना छुट्टी या ब्रेक 13 से 14 घंटे काम कराया जाता था

By मसूद अख़्तर

नारायण मेघाजी लोखंडे को भारतीय मज़दूर आन्दोलन का अग्रदूत कहा जा सकता है। महात्मा ज्योतिबा फूले के अनुयायी, नारायण मेघाजी लोखंडे का जन्म 1848 में तत्कालीन विदर्भ के पुणे जिले के कन्हेरसर में एक गरीब फूलमाली जाति के साधारण परिवार में हुआ था। कालान्तर में उनका परिवार आजीविका के लिये थाणे आ गया।

यहीं से लोखंडे ने मैट्रिक की परीक्षा पास की। परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी न होने के कारण वह उच्च शिक्षा जारी न रख सके और गुजर-बसर के लिये उन्होंने आरम्भ में रेलवे के डाक विभाग में नौकरी कर ली। बाद में वह बॉम्बे टेक्सटाइल मिल में स्टोर कीपर के रूप में कुछ समय तक कार्य किया।

यहीं पर लोखंडे मेघाजी को श्रमिकों की दयनीय स्थिति को करीब से देखने, समझने, महसूस करने और इस सम्बन्ध में विचार करने का अवसर मिला। और वे कामगारों की तमाम समस्याओं से अवगत हुये व खुद भी बहुत करीब से उसे महसूस किया। इसी समय से मज़दूरों की दशाओं और उनके कारणों को समझने की दिशा में उनकी रूचि जाग्रत हुयी।

उन्होंने सन् 1880 में ‘दीन बंधु’ नामक जर्नल के सम्पादन का दायित्व ग्रहण किया और उसे वो अपनी मृत्यु तक सन 1897 तक अनवरत् निभाते रहे। वह उस जर्नल में प्रकाशित होने वाले अपने तेज़स्वी लेखों के माध्यम से मालिकों द्वारा श्रमिकों के शोषण का प्रभावपूर्ण तरीके से चित्रण करना व उसकी आलोचना और उनकी कार्य परिस्थितियों में बदलाव का समर्थन किया करते थे।

समाज के उपेक्षित, असुरक्षित व असंगठित वर्गों को संगठित करने का अभियान उन्होंने यहीं से प्रारम्भ किया जो जीवन पर्यन्त चलता रहा। सन् 1884 में ‘बॉम्बे हैंड्स एसोसिएशन’ नाम से भारत में उन्होंने प्रथम ट्रेड यूनियन की स्थापना की और इसके अध्यक्ष भी रहे।

Narayan Meghaji Lokhande trade union leader maharashtra
नारायण मेघाजी लोखंडे (1848-1897) फ़ोटोः इंटरनेट

पहली बार रविवार को छुट्टी की मांग

1881 में तत्कालीन अंग्रेजी सरकार ने मजदूरों की माँग व दबाव के चलते कारखाना अधिनियम (फ़ैक्ट्री एक्ट) बनाया लेकिन मज़दूर इस अधिनियम से संतुष्ट नहीं थे। अंग्रेजी सरकार को 1884 में इस अधिनियम में सुधार के लिये जाँच आयोग नियुक्त करना पड़ा।

इसी वर्ष लोखंडे मेघाजी ने ‘बॉम्बे मिल हैंड्स एसोसिएशन’ की स्थापना की। ज्ञात हो कि सत्रहवीं-अठारहवीं सदी में भारत अपनी बेहतरीन टेक्सटाइल के लिये पश्चिमी दुनिया में प्रसिद्ध था। बॉम्बे मिल हैंड्स एसोसिएशन ने सितम्बर 1884 में प्रथम मज़दूर आम सभा आयोजित की। इस सभा में लगभग साढ़े पाँच हज़ार श्रमिकों ने हिस्सा लिया। सभा के अन्त में एक प्रस्ताव पास किया गया, जिसमें मुख्यतः पाँच माँगें रखी गयी थीं:-

1. रविवार को साप्ताहिक छुट्टी हो।
2. भोजन करने के लिये छुट्टी दी जाये।
3. काम के घंटे निश्चित हों।
4. काम के समय किसी तरह की दुर्घटना हो जाने की स्थिति में कामगार को सवेतन छुट्टी दी जाये; और
5. दुर्घटना के कारण किसी श्रमिक की मृत्यु हो जाने की स्थिति में उसके आश्रितों को पेंशन मिले।

इसके बाद उपरोक्त सभी बातों को शामिल करते हुये एक याचिका तैयार की गयी जिस पर 5,500 श्रमिकों ने हस्ताक्षर किये थे और इसे फैक्ट्री कमीशन के सामने प्रस्तुत किया गया। इस याचिका के माध्यम से प्रस्तुत माँगों का फैक्ट्री मालिकों ने विरोध किया और अंग्रेजी सरकार भी इसकी अनदेखी करती रही। विवश होकर लोखंडे मेघाजी जगह-जगह आम सभाओं के माध्यम से उपरोक्त माँगों को मनवाने के लिये दबाव बनाते रहे।

इसी क्रम में एक महत्वपूर्ण आम सभा अप्रैल, 1890 में बॉम्बे के रेसकोर्स मैदान में आयोजित की गयी जिसमें 10,000 से अधिक श्रमिकों ने हिस्सा लिया, तथा अनेक महत्वपूर्ण भाषण हुये जिनमें से कई महिला कामगारों ने दिये। अंततः लोखंडे मेघाजी को उपरोक्त माँगों को पाने के लिये हड़ताल का सहारा लेना पड़ा।

मजदूरों की इस हड़ताल के आगे मालिकों को हार माननी पड़ी और सभी कामगार क्षेत्रों में साप्ताहिक अवकाश की घोषणा हुई। इसके तुरन्त बाद सरकार ने एक फैक्ट्री श्रम आयोग का गठन किया जिसमें श्रमिकों का प्रतिनिधित्व लोखंडे मेघाजी ने किया।

सामाजिक कुरीतियों के ख़िलाफ़ यूनियन का सहारा

इस आयोग की सिफारिश पर श्रमिकों के काम के घंटे तय हुये। आयोग ने कामगारों को भोजन की छुट्टी देने का भी निर्णय लिया, लेकिन मालिकों ने आयोग की इस सिफारिश को अस्वीकार कर दिया। जब श्रम आयोग की सिफारिश की स्वीकृति में विलम्ब होने लगा तो 1894 में लोखंडे ने इसके लिये फिर से संघर्ष शुरू किया।

इस संघर्ष में महिला कर्मचारियों ने भी भाग लिया। लोखंडे के सतत् प्रयासों का लाभ यह मिला कि मज़दूरों को रविवार को साप्ताहिक अवकाश, आधे घंटे का भोजनावकाश और काम के समय में कमी की बात मान ली गयी।

इस दौरान लोखंडे मेघाजी ने महसूस किया कि श्रमिकों के निजी जीवन में व्याप्त दुर्व्यसनों एवं दुराचार को दूर किये बिना उनकी स्थिति में सुधार नहीं किया जा सकता है। अतः उन्होंने इस दिशा में भी प्रचार और आन्दोलनों के माध्यम से प्रयास किये।

लोखंडे के व्यक्तित्व का एक विशेष पहलू जिसकी वजह से अन्य श्रमिक नेताओं की तुलना में वह अपनी अलग ही पहचान रखते हैं, वह यह था कि वह उन गैर मज़दूरों, जो किसी भी प्रकार के भेदभाव के शिकार थे, के कल्याण के प्रति भी उतने ही प्रतिबद्ध थे जितने कि मज़दूरों के कल्याण के प्रति।

उन्होंने महिलाओं, विशेषतः विधवाओं, दलितों, अल्पसंख्यकों व समाज के अन्य कमजोर तबके के हितों के लिये संघर्ष को नेतृत्व प्रदान किया। लोखंडे मेघाजी का व्यापक सामाजिक सरोकार उस उमंग और उत्साह से स्पष्ट झलकता था जिससे कि वह ‘दीन बन्धु’ का सम्पादन करते थे।

उन्होंने मार्च, 1890 में महाराष्ट्र के विभिन्न हिस्सों से आये नाइयों की एक सभा आयोजित की जिसमें यह प्रस्ताव पारित किया गया कि विधवाओं के सिर मुंडवाने की प्रथा एक बर्बर प्रथा है। अतः इसमें कोई भी नाई शामिल नहीं होगा।

प्लेग में लोगों की सेवा करते प्राणों की आहूति

उन्होंने 1893 के साम्प्रदायिक दंगों के तुरन्त बाद हिन्दू-मुस्लिम समुदाय के बीच आपसी सद्भाव और एकता को पुनर्स्थापित करने की दिशा में महत्वपूर्ण योगदान किया। उन्होंने बम्बई के प्रसिद्ध एलिजाबेथ गार्डन (जिसका वर्तमान नाम जीजामाता बाई बगीचा) में मज़दूरों की एकात्म परिषद का आयोजन किया, जिसमें सभी धर्मों और पंथों के लगभग 60,000 मजदूरों ने भाग लिया।

राष्ट्रीय एकात्मता का भाव जगाने के लिये लोखंडे जी का यह प्रयास अप्रतिम था। इसी प्रकार वर्ष 1896 में बम्बई में प्लेग की महामारी के दौरान लोखंडे मेघाजी ने प्लेग प्रभावित लोगों की मिशनरी भाव से सेवा की और उसी समय एक चिकित्सालय की स्थापना भी की।

परन्तु दुर्भाग्यवश प्लेग की इस महामारी से लोगों को बचाने की अपनी इस लड़ाई में वो प्लेग की चपेट में आ गये और 5 फ़रवरी 1897 को उनका देहांत प्लेग के ही वजह से हो गया।

विभिन्न सामाजिक क्षेत्रों में लोखंडे के सक्रिय योगदान को मान्यता प्रदान करते हुये उन्हें ‘जस्टिस ऑफ़ पीस’ की उपाधि प्रदान की गयी। मई 2005 में लोखंडे जी की स्मृति में भारत सरकार द्वारा एक डाक टिकट जरी किया गया।

इस अवसर पर डाक टिकट जारी करते हुये प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने लोखंडे मेघाजी के व्यक्तित्व को अनुकरणीय बताते हुये आज के दौर के श्रमिक नेताओं से अनुरोध किया कि वे सामाजिक बदलाव लाने व लोगों के सशक्तिकरण के लिये लोखंडे के दृष्टिकोण को प्रोत्साहित करें।

साथ ही उन्होंने कहा कि मार्क्स और एंगल्स ने श्रमिक वर्ग को सामजिक क्रान्ति के अग्रदूत की उपाधि इसलिये दी क्योंकि उन्होंने पाया कि उस समय श्रमिक वर्ग समाज का सामाजिक और राजनीतिक रूप से सर्वाधिक जागरूक वर्ग है।

यद्यपि लोखंडे वर्तमान भारतीय ट्रेड यूनियन नेता के तौर पर उतना जाना-पहचाना नाम नहीं है, जबकि उनकी मृत्यु के कुछ वर्षों बाद ही उनकी एक छोटी सी जीवनी प्रकाशित हुयी थी, परन्तु वह जीवनी आज आसानी से उपलब्ध नहीं है।

वर्तमान में मराठी लेखक मनोहर कदम ने उनकी जीवनी मराठी में लिखी है जोकि बेहतर ढंग से उनके जीवन व कार्यों से हमें परिचित कराती है।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं। वर्कर्स यूनिटी के टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें।

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button
Close
Enable Notifications    OK No thanks