Air indiaएयर इंडियाख़बरेंप्रमुख ख़बरें

आत्मनिर्भर भारत पैकेज में मिलेंगे ‘अडाणी’ को छह हवाई अड्डे

एयरपोर्ट अथॉरिटी ने तैयार किया कैबिनेट नोट, इसी महीने मंजूरी की मुहर लगने की उम्मीद

केंद्र सरकार ने देश के 6 और हवाई अड्डों को प्राइवेट कंपनियों को देने की तैयारी शुरू कर दी है। इसको लेकर भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण ने कैबिनेट नोट तैयार कर लिया है। इस प्रस्ताव को इसी महीने मंत्रिमंडल की मंजूरी मिलने की उम्मीद है।

एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के निदेशक मंडल ने अमृतसर, वाराणसी, भुवनेश्वर, इंदौर, रायपुर और त्रिचि हवाई अड्डों को पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत प्राइवेट कंपनियों को सौंपने की मंजूरी दी थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते 1 मई को नागरिक उड्डयन क्षेत्र के मुद्दों पर एक उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक में इन हवाई अड्डों के निजीकरण के लिए प्रक्रिया तेज कर तीन महीने के भीतर निविदा जारी करने का निर्देश दिया था।

एएआई के अध्यक्ष अरविंद सिंह ने बताया कि दूसरे चरण के तहत इन छह हवाई अड्डों के निजीकरण के लिए कैबिनेट नोट तैयार हो चुका है। इसी महीने इस संबंध में प्रस्ताव मंत्रिमंडल के विचार के लिए रखा जाएगा। मंत्रिमंडल की मंजूरी मिलने के बाद निविदा जारी कर दी जाएगी।

उन्होंने बताया कि पिछले साल फरवरी में पहले चरण के तहत लखनऊ, अहमदाबाद, जयपुर, मेंगलुरु, तिरुवनंतपुरम् और गुवाहाटी हवाई अड्डों के निजीकरण के लिए बोली प्रक्रिया पूरी की गई थी।

सभी छह हवाई अड्डों के लिए अडाणी समूह का चयन किया गया था। इनमें अहमदाबाद, लखनऊ और मेंगलुरु हवाई अड्डों का प्रबंधन 50 साल के लिए अडाणी समूह को सौंपा जा चुका है, जबकि अन्य तीन हवाई अड्डों का प्रबंधन भी कंपनी को जल्द सौंपे जाने की उम्मीद है।

कानूनी पेंच की वजह से जयपुर, तिरुवनंतपुरम् और गुवाहाटी हवाई अड्डों का प्रबंधन अडाणी समूह को अब तक नहीं सौंपा जा सका है। सरकार ने हवाई अड्डों का प्रबंधन निजी कंपनियों को सौंपने की योजना को आत्मनिर्भर भारत पैकेज में भी शामिल किया है।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं। वर्कर्स यूनिटी के टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें।)

Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Enable Notifications    Ok No thanks